Thursday, 4 August 2022

जवाहर नवोदय विद्यालय की तैयारी कैसे करें

जवाहर नवोदय विद्यालय की तैयारी कैसे करें-

जवाहर नवोदय विद्यालय में प्रवेश चाहिए तो जानें कैसे करें जवाहर नवोदय विद्यालय चयन परीक्षा – 2022 परीक्षा की तैयारी,

click here for 10 years previous Questions



इस पोस्ट में आपको जवाहर नवोदय विद्यालय से जुड़ी हुई हर जानकारी को शेयर करेंगे कि नवोदय विद्यालय की तैयारी हम कैसे कर सकते हैं या नवोदय विद्यालय की तैयारी अपने बच्चों को कैसे कराएं जिसकी मदद से वह जवाहर नवोदय विद्यालय में प्रवेश ले सकें इस पोस्ट में हम और जानेंगे कि जवाहर नवोदय विद्यालय में सिलेबस क्या-क्या होता है और सिलेबस हिसाब से कैसे तैयारी किया जा सकता है.

देखें टिप्स

जवाहर नवोदय विद्यालय में जाने के लिए प्रवेश परीक्षा देना पड़ता है। जो कक्षा 6वीं और 9वीं में दाखिले के लिए होता है।

Table of Content 

  1.  जवाहर नवोदय विद्यालय में कैसे लें दाखिला
  2.  जानें, परीक्षा की संरचना :Structure of Examination
  3.  सिलेबस (पाठ्यक्रम ) का विश्लेषण करें
  4.  टाइम टेबल (समय – सारणी ) बनाएं
  5.  रटा बिल्‍कुल न मारें
  6.  गणित विषय पर जोर दें
  7.  टॉपिक न समझ आए तो दूसरों से मदद लें
  8.  अच्छी बुक का करें इस्तेमाल
  9.  अभ्यास पुस्तिका से हल करवाएं
  10.  सरल प्रश्नों को पहले हल करें

* 30 अप्रैल 2022 में आयोजित होगा JNVST-2022 कक्षा -6 की प्रवेश परीक्षा

* ऐसा होगा जेएनवीएसटी परीक्षा का पैटर्न

* इन आसान टिप्स की मदद से कर सकते हैं JNVST की तैयारी

जवाहर नवोदय विद्यालय चयन परीक्षा यानी जेएनवीएसटी (JNVST) द्वारा हर साल कक्षा 6वीं और 9वीं में दाखिले के लिए हर साल प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया जाता है। इस बार यह परीक्षा अप्रैल 2022 में आयोजित होना संभावित है |

नवोदय विद्यालय हर जिले में एक होता है जहां पर नवोदय विद्यालय प्रवेश परीक्षा आयोजित करके उसमें से चुने हुए प्रतिभाशाली बच्चों को प्रवेश दिया जाता है जहां पर उनको हर तरह की शिक्षा उस आवासीय विद्यालय में मिलता है यानी कि एक सामान्य विद्यालय की अपेक्षा एक बहुत ही बेहतरीन शिक्षा नवोदय विद्यालय द्वारा बच्चों को दी जाती है जो कि हर राज्य के हर जिले में होता है।

 

जवाहर नवोदय विद्यालय में कैसे लें दाखिला

जवाहर नवोदय विद्यालय में जाने के लिए प्रवेश परीक्षा दिलाना पड़ता है। जो कक्षा 6वीं और 9वीं में दाखिले के लिए होता है। इसलिए अगर आपके बच्‍चे सरकारी/ सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त विद्यालय के कक्षा 5वीं या 8वीं में पढ़ रहे हैं तो आप उन्‍हें कक्षा छठवीं और कक्षा नवमी में जाने के लिए यह प्रवेश परीक्षा दिला सकते हैं। इस परीक्षा का पास करना अनिवार्य होता है और उस पास किए हुए प्रतिभाशाली बच्चों को सीट के हिसाब से चयन किया जाता है सीट मिलने के पश्चात ही जवाहर नवोदय विद्यालय में प्रवेश दिया जाता है।


जानें, परीक्षा की संरचना :Structure of Examination

जवाहर नवोदय विद्यालय प्रवेश परीक्षा में तीन तरह के प्रश्न -पत्र अर्थात मानसिक योग्यता परीक्षा , अंकगणित परीक्षा और भाषा परीक्षा है | यह परीक्षा 20 भाषाओं में मुद्रित है | अभ्यर्थी को उसी भाषा की पुस्तिका दी जायेगी जो उसने आवेदन-पत्र में भरा है | चयन परीक्षा में कुल मिलाकर 80 प्रश्न होगी  और  पूर्णांक 100  होगा  | सभी प्रश्न वस्तुनिष्ठ है | परीक्षा की कुल अवधि दो घंटे है

यह परीक्षा 100 अंक की होती है। जिसके लिए 2 घंटे का समय मिलता है। इन 2 घंटे में 80 बहुविकल्पीय प्रश्नों का हल करना होता है | दिए गए बहुविकल्पीय  सवालों को हल करना होता है। इसमें वैकल्पिक सवाल रहते हैं, जिनके चार ऑप्शन रहते हैं। चारों ऑप्शन में से एक ऑप्शन को चुनकर लिखना होता है। इस प्रवेश परीक्षा में किसी भी तरह का नेगेटिव मार्क्स नहीं होती है। इस परीक्षा में तर्कशक्ति 50 अंक, गणित 25 अंक और भाषा 25 अंक का रहता है।

 

प्रश्न-पत्र – I

40 प्रश्न

50 अंक

60 मिनट

प्रश्न-पत्र - II

अंकगणित परीक्षा

20 प्रश्न

25 अंक

30 मिनट

प्रश्न-पत्र - III

भाषा परीक्षण

20 प्रश्न

25 अंक

30 मिनट

 कुल प्रश्न-पत्र (I-III)

 

80 प्रश्न

 100 अंक 

2 घंटे 

 

परीक्षा का स्वरूप :

अनुभाग -1 :  मानसिक योग्यता परीक्षा - इस परीक्षण का मुख्य प्रयोजन प्रश्नों के माध्यम से विद्यार्थियों की अंतर्निहित योग्यताओं को मापना है |

1. यह पूर्णत: अशाब्दिक  परीक्षण है | इस प्रश्न-पत्र के सभी प्रश्न केवल आकृतियों और रेखाचित्रों पर आधारित है |

2. इस परीक्षण के 10 भाग है, प्रत्येक भाग में प्रत्येक प्रकार के 4-4 प्रश्न होंगे | (2019 के प्रश्न-पत्र के आधार पर )

अनुभाग : II  अंकगणित -  इस परीक्षा का मुख्य उद्वेश्य अभ्यथियों की अंकगणित में मौलिक दक्षता को मापना है |

 

 इस परीक्षा के सभी 20 प्रश्न निम्नलिखित 15 विषयों /धारणाओं पर आधारित है |

अनुभाग - IIIभाषा  इस परीक्षण का मुख्य प्रयोजन अभ्यर्थियों के पठन -बोध की योग्यता का परीक्षण करना है |

 

1. 20 अंकों वाले इस परीक्षण में 20 प्रश्न होंगें |

 

2. 4 गद्यांश दिए गए है और अभ्यर्थी  के पठन -बोध का परीक्षण करने के लिए प्रत्येक गद्यांश में 5 प्रश्न दिए गए है 

 

प्रवेश परीक्षा के लिए इस तरह करें तैयारी

 

सिलेबस (पाठ्यक्रम ) का विश्लेषण करें

परीक्षा की तैयारी शुरू करने से पहले, आप बच्‍चों को सबसे पहले इसके सिलेबस का पूरी तरह से विश्लेषण कर उसकी जानकारी बच्‍चों को दें। इससे उनको उस विषय को जानने में मदद मिलेगी, जिसे उनको अध्ययन करना है। फिर प्रत्येक विषय का वेटेज जानने के लिए जेएनवीएसटी कक्षा 6वीं और 9वीं के परीक्षा पैटर्न की भी जानकारी दें।

 

टाइम टेबल (समय – सारणी ) बनाएं

सिलेबस की जानकारी देने के बाद आप बच्‍चों के लिए टाइम टेबल बनाए। इस दौरान ध्‍यान रखें कि वे आप बच्‍चों के मजबूत और कमजारे विषय के अनुसार टाइम का बटंवारा करें। इसके अनुसार उनकी तैयारी शुरू करें। पढ़ाई के दौरान समय-समय पर बच्‍चों को ब्रेक भी लेने को कहें।

 

रटा बिल्‍कुल न मारें

इस परीक्षा की तैयारी के दौरान ध्‍यान रखें कि बच्चे विषयों का रटा बिल्‍कुल न मारें, इसकी जगह उसे समझने की कोशिश करें। गणित के सूत्रों का नोट बनाएं, वहीं तर्कशक्ति परीक्षण के प्रश्‍नों को समझने की कोशिश करें, तभी सफलता मिलेगी।

 

गणित विषय पर जोर दें

इस परीक्षा में गणित विषय पर जोर देना बहुत ही जरूरी है, क्योंकि परीक्षा में बच्चे अधिकतम गणित विषय पर सवाल को अच्छे से बना नहीं पाते हैं। इसलिए जब भी आप बच्चों को पढ़ाते हैं, गणित विषय पर ज्यादा फोकस करें। ताकि बच्चे उसको अच्छे से समझ जाए और 25 अंकों में से ज्‍यादा से ज्‍यादा अंक हासिल करने का टारगेट बनाए। गणित विषय से सम्बन्धित विभिन्न टॉपिक पर अभ्यास के लिए क्लिक करें 

 

टॉपिक न समझ आए तो दूसरों से मदद लें

सिलेबस की पढ़ाई के दौरान अगर आपको कोई टॉपिक समझ नहीं आ रहा तो बेझिझक दूसरों की मदद लें। इसमें आपके पिता, भाई और शिक्षक हो सकते हैं। साथ ही अपने अनुभव का उपयोग करने के लिए जेएनवीएसटी परीक्षा के लिए उपस्थित होने वाले वरिष्ठों से बात करें।

 

अच्छी बुक का करें इस्तेमाल

वहीं कक्षा छठवीं में प्रवेश पाने के लिए बच्चों की उम्र बहुत ही कम रहती है। वे पढ़ाई में ज्यादा फोकस नहीं कर पाते, इसलिए माता-पिता को मदद करनी पड़ती है। बच्‍चों की तैयारी के दौरान माता-पिता को ध्‍यान रखना चाहिए कि उनकी तैयारी एक ऐसे बुक से कराएं, जिसमें किसी गणितीय सवालों को हल करने के चित्रों द्वारा या तर्कशक्ति के सवालों को हल करने के लिए चित्रों द्वारा बहुत ही सरल रूप में दिया गया हो। यानी कि ऐसे बुक का हमेशा चयन करें जो सरल भाषा में बच्चों को समझाएं और पेरेंट्स को भी वह बुक पढ़ने में समझ में आ जाए। अलग-अलग प्रकाशनों का प्रैक्टिस बुक और पिछले वर्ष का प्रश्न पत्र देखने  के लिए क्लिक करें 

 

अभ्यास पुस्तिका से हल करवाएं

गणित और तर्कशक्ति के विषय में अगर आप अभ्यास पुस्तिका का इस्तेमाल करते हैं तो इससे बच्चों को सवाल याद हो जाएगा। इसलिए पुस्तक में जैसा सवाल दिया गया है इस तरह से अभ्यास पुस्तिका बनाकर बच्चों को हल करने को दें या आप मार्केट से भी नवोदय विद्यालय अभ्यास पुस्तिका खरीदकर बच्चों का टेस्ट ले सकते हैं। साथ ही अपने हिसाब से भी सवालों का अभ्यास पुस्तिका बनाकर बच्चों से अभ्यास करवा सकते हैं तो तर्कशक्ति और गणित की अभ्यास पुस्तिका से बच्चों को हल जरूर करवाएं। Online Practice Book के लिए क्लिक करें 

 

सरल प्रश्नों को पहले हल करें

परीक्षा में बच्चे सवालों को लाइन से हल करते हैं। इसलिए बच्‍चों को पहले ही बता दें कि जो सवाल आपको सरल लग रहा है उसे पहले हल करें, उसके बाद अंत में कठिन सवालों को बनाना शुरू करें। इससे वे कम समय में ज्‍यादा से ज्‍यादा प्रश्‍न हल कर सकेंगे।

 

स्रोत : गूगल 

No comments:

Post a Comment

M. PRASAD
Contact No. 7004813669
VISIT: https://www.historyonline.co.in
मैं इस ब्लॉग का संस्थापक और एक पेशेवर ब्लॉगर हूं। यहाँ पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी शेयर करती हूं। Please Subscribe & Share

Also Read

CCS Conduct Rule 1964

CENTRAL CIVIL SERVICE  (CONDUCT) RULES-1964 MULTIPLE CHOICE QUESTION 1. CCS Conduct Rules come into force on A. 1965 B. 1964 C. 1956...